Sunday, 2 October 2016

हमारा वतन






ख़ुद में सारा जहान रखते हैं
दिल में हिन्दोस्तान रखते हैं
*
वक़्त आने पे ये दिखा देंगे
हम हथेली पे जान रखते हैं
*
हमको माटी मिली है भारत की
इसपे कितना गुमान रखते हैं
*
बुद्ध और युद्ध की विरासत को
देखिये हम समान रखते हैं
*
गंग-जमुनी के रँग में डूबी
कितनी मीठी ज़ुबान रखते हैं
*
यूँ तो संयम का नाम है भारत
पर गज़ब का उफान रखते हैं
*
हमको झुकना भी ख़ूब आता है
और सीना भी तान रखते हैं

*
हमने दुनिया को है दिखाया ये
बैरियों का भी मान रखते हैं
*


दीपक कुमार शुक्ला

No comments:

Post a Comment

मत उदास हो

मत उदास हो थके मुसाफिर कुछ श्रम बिंदु बिखर जाने से यह पथ और निखर जायेगा। रोक सकी कब पागल रजनी आने वाली सलज उषा को बाँध न पाई काली...