Sunday, 5 April 2020

दायरे में वक़्त के


ज़िन्दगी जीते हुए चाहे भरम ही पाल रख
दायरे में वक़्त के सिमटी ख़ुशी सम्भाल रख


कौन जाने कब कहानी का कथानक ख़त्म हो
जी भी रख हल्का ही अपना और कम जंजाल रख


क्यों समय को कोसना उसकी सधी रफ़्तार है
शर्त है पाबन्दगी की तो ये आदत डाल रख


अनसुनी अनहोनियों में काल का है रथ अभी
युग इसे भी हाँक लेगा हौसला हर हाल रख 


मन रमा एकांत में आनन्द देती साधना
मीत तू भी इन पलों से रूह की लय-ताल रख


  *** मदन प्रकाश ***

Sunday, 29 March 2020

घर




ईश्वर से प्राप्त सभी वर है
पर घर तो बस तुमसे घर है 


आयामों को तय करने में
जीवन की पगडंडी उलझी
पहले दिन से तुम खोल रही
गत आगत की बातें सुलझी
प्रासादों में आडम्बर है
घर का सुख विस्तृत अंबर है
आता कहने का अवसर है
जिह्वा पर अटके अक्षर है


ईश्वर से प्राप्त सभी वर है
पर घर तो बस तुमसे घर है 


बाह्याभ्यन्तर की पीड़ाएँ
जब ठंडी साँसों में जलती
स्मित मधुर वचन आश्वासन का
सुरभित मलयज चंदन मलती
क्षण भीतर ही क्षण कातर है
घर अवगुंठन की झालर है
प्लावन से कुछ तट को ड़र है
पर तल में फूटे निर्झर है 


ईश्वर से प्राप्त सभी वर है
पर घर तो बस तुमसे घर है 


कौटुम्बिक रिश्ते नातों में
विनिमय का भाव भरा गहरा
सुख-दुःख में घेरे रहता है
कोमल बाँहों का ही पहरा
निर्धनता कितनी सुन्दर है
गृहणी से ही घर मन्दिर है
तुम हो तो फिर किसका डर है
मेरा जीवन अमृत तर है 


ईश्वर से प्राप्त सभी वर है
पर घर तो बस तुमसे घर है 


*** डॉ. मदन मोहन शर्मा ***
सवाई माधोपुर, राजस्थान

Sunday, 22 March 2020

भीतर का डर


बाहर के डर से लड़ लेंगे,
भीतर का डर कैसे भागे। 
**
बचपन से देखा है हमने अक्सर ख़ूब डराया जाता, 
दुःख यही है अपनों द्वारा ऐसा क़दम उठाया जाता, 
छोटी-छोटी गलती पर भी बंद किया जाता कमरे में,
फिर शाला में अध्यापक का डण्डा हमें दिखाया जाता, 
एक बात है समता का यह लागू रहता नियम सभी पर,
निर्धन या धनवान सभी के बच्चे रहते सदा अभागे। 
**
बाहर के डर से लड़ लेंगे
भीतर का डर कैसे भागे। 
**
डर की यह बुनियाद सभी के बचपन में ही पड़ जाती है,
जैसे कील नुकीली कोई गहराई तक गड़ जाती है,
और यही डर धीरे-धीरे जीवन का बनता है हिस्सा,
और धर्म के आडम्बर में सोच अभय की सड़ जाती है,
जीवन की आपाधापी में भार दवाबों का इतना है,
पता नहीं है आगत में कब निद्रा से नूतन डर जागे। 
**
बाहर के डर से लड़ लेंगे
भीतर का डर कैसे भागे। 
**
हम सब ही जीवन में डर का नित सम्मान किया करते हैं, 
अंध भक्त हों बाबाओं का क्यों गुणगान किया करते हैं,
कारण है जितने भी बाबा दिखलाते हैं डर ईश्वर का,
लाभ उठा इस भय का खुद को वे धनवान किया करते हैं,
जितने धूर्त गुरू होते हैं जीवन में अक़्सर देखा है,
उनकी सोच सदा रहती है लोगों की सोचों से आगे।
**
बाहर के डर से लड़ लेंगे
भीतर का डर कैसे भागे। 
**
 
*** गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत' बीकानेरी ***

Sunday, 15 March 2020

मानव/आदमी/इंसान


 
*********************
बहुत सुना और पढ़ा है मैंने
मानव के पूर्वज
बन्दर हुआ करते थे।
अब क्या बतायें आपको,
यह भी पढ़ा है मैंने,
कि कुछ भी कर लें
आनुवंशिक गुण तो
रह ही जाते हैं।
वैसे तो बहुत बदल लिया
हमने अपने-आपको,
बहुत विकास कर लिया,
पर कभी-कभी
बन्दरपना आ ही जाता है।
ताड़ते रहते हैं हम
किसके पेड़ पर ज़्यादा फ़ल लगे हैं,
किसके घर के दरवाजे़ खुले हैं,
बात ज़रूरत की नहीं,
आदत की है,
बस लूटने चले हैं।
कहलाते तो मानव हैं
लेकिन जंगलीपन में मज़ा आता है
दूसरों को नोचकर खाने में
अपने पूर्वजों को भी मात देते हैं।
बेचारे बन्दरों को तो यूँ ही
नकलची कहा जाता है,
मानव को दूसरों के काम
अपने नाम हथियाने में
ज़्यादा मज़ा आता है।
कहने को तो आज
आदमी बन्दर को डमरु पर नचाता है,
पर अपना नाच कहाँ देख पाता है।
बन्दर तो आज भी बन्दर है
और अपने बन्दरपने में मस्त है
लेकिन मानव
न बना मानव,
न छोड़ पाया बन्दरपना
बस एक पेड़ से दूसरे पेड़ पर
कूदता-फाँदता नज़र आता है।
************************
*** कविता सूद ***

Sunday, 8 March 2020

होली पर दोहे




झाँझ मंजीरे गोपियाँ, ले आये ढप ग्वाल।
झटपट आई राधिका, झूम उठे 'गोपाल'।।


कृष्ण राधिका कर रहे, रंगों की बौछार।
ऐसे बरसा प्रेम रस, भीगा सब संसार।।


हवा हया को ले उड़े, तन मन यूँ बोराय।
होली में साजन बिना, अंग अंग अकुलाय।।


इंद्रधनुष फीका लगे, तुझ पर ऐसे रंग।
कौन खेलता रंग से, तितली तेरे संग।।


देख पूर्णिमा चाँद को, आई तेरी याद।
दिल होली से जल रहा, आस हुई प्रह्लाद।।


विजय फूल की शूल पर, याद रहे संसार।
नहीं साँच को आँच है, होली का त्योंहार।।


अभी तलक बेरंग हूँ, रंग अभी तो डाल।
तुझको भाये रंग जो , वही डाल 'गोपाल'।।
========================
*** आर. सी. शर्मा "गोपाल" ***

Saturday, 29 February 2020

सार छंद


••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••
1~
ब्रह्म सत्य है जग है मिथ्या, सबने ही यह माना।
जो भी आया है इस जग में, उसे एक दिन जाना।।
जग को मायाजाल बताते, साधु संत मुनि ज्ञानी।
किंतु जगत के आकर्षण का, और न कोई सानी।।
2~
लिखा भाग्य में जिसके जो भी, वही सभी को पाना।
जग में आया मुट्ठी बाँधे, हाथ पसारे जाना।।
किंतु बदलते अपनी किस्मत, कर्मशील जो रहते।
कर्म करो फल की इच्छा बिन, गीता में प्रभु कहते।।
3~
ब्रह्म सत्य पर विद्वानों में, सदा मतैक्य रहा है।
मिथ्या जग की व्याख्या में ही, सबने अलग कहा है।।
कहें निकृष्ट निरर्थक जग को, अतिशयोक्ति में जो भी।
किंतु लिप्त हो जाते जग के, आकर्षण में वो भी।।
4~
बढ़ी आज इस मिथ्या जग में, झूठ और मक्कारी।
झूठों के बहुमत के कारण, झूठ सत्य पर भारी।।
झूठे लोग खड़े करते हैं, सदा झूठ के झंगे।
चलती रहे सियायत उनकी, वही कराते दंगे।।
5~
मिथ्या जग की बात कभी भी, पड़ी न अपने पल्ले।
क्या मिथ्या संसार मानकर, हो जाएँ सब नल्ले।।
करने को सत्कर्म जगत में, जीव जन्म ले आता।
बड़े भाग्य से सुर दुर्लभ तन, मानव का वह पाता।।


*** हरिओम श्रीवास्तव ***

Sunday, 23 February 2020

भगवान शिव पर दोहे



‘शं’ से हैं आनंद शिव, ‘कर’ से हैं कल्याण।
सत्, चित् अरु आनंद का, वर्णन करें पुराण।।


शिव ही शाश्वत सत्य हैं, शिव से है आनंद।
शिव ही हैं सौंदर्य अरु, शिव ही परमानंद।।


शीश विराजे चंद्रमा, जटा गंग की धार।
तन भभूत, मृगछाल अरु, गले सर्प का हार।।


भांग, धतूरा, बेर प्रिय, बेलपत्र आहार।
शिव निवास कैलाश पर, नंदी पीठ सवार।।


आशुतोष शिव ने किया, जीवन का कल्याण।
इनके प्रबल प्रताप से, रक्षित होते प्राण।।


शिव की हो संकल्पना, शिव सा उपजे बोध।
सृष्टि जगत में क्यों न हो, ज्ञान तत्त्व का शोध।।


शिव से माँगे अंजना, समरसता वरदान।
जगजननी माता उमा, दे दो यह अभिधान।।
 

*** डॉ. अंजना सिंह सेंगर ***

दायरे में वक़्त के

ज़िन्दगी जीते हुए चाहे भरम ही पाल रख दायरे में वक़्त के सिमटी ख़ुशी सम्भाल रख कौन जाने कब कहानी का कथानक ख़त्म हो जी भी रख हल्का ही...