Sunday, 11 November 2018

दीप-ज्योति प्रज्ज्वलित है


दीप-जीवन, ज्योति प्रभु की प्रज्ज्वलित है।
नेह-घृत में आत्म-बाती आगलित है॥ 


ज्योति-घट छलका बना अस्तित्व तेरा।
मातु-पितु से है सुभग सुकृतित्व तेरा।
है उन्ही की रोशनी तुझको मिली जो।
डाल अब कुछ नेह तू भी लौ चली वो।
धुन्ध बन कर दीप बुझता शुचि ललित है॥

है बुझा दीपक किसी का अमर हो कर।
जी गया वह जिन्दगी को मृत्यु बो कर।
हौसलों की आग में जलता रहा जो।
आँधियों के मध्य भी पलता रहा वो।
वीर सैनिक-दीप भारत का फलित है॥

आस-दीपक गुल, सबेरा है किसी का।
करुण-आभा में बसेरा है किसी का।
हम चिरागों को जलालें आज ऐसे।
चन्द्र की सोलह कला का साज जैसे।
ज्ञान का ही दीप जीवन में कलित है॥
------------
*** सुधा अहलूवालिया ***


(आगलित - भीगी हुई)

Sunday, 4 November 2018

अंतर्वेदना का एक गीत


 
शरण नहीं निज प्यार जाँचने आए हैं।
दया नहीं अधिकार माँगने आए हैं। 


ढूँढ़-ढूँढ़ कर हार गए तेरा आँगन,
बैठ गयी फिर थके बटोही-सा साजन,
सुधियों के सब चित्र नैन में घूम गए,
बंद नयन में जब अतीत घूमा पावन। 


उन यादों की पीर तुम्हारे आँगन में,
जग से हम थक-हार टाँगने आए हैं, 

दया नहीं अधिकार माँगने आए हैं। 

निर्मोही कुछ दिशा बता दो, आ जाऊँ,
जीवन अंबर पर तेरे मैं छा जाऊँ,
आत्मसात कर तेरा सारा दर्द प्रिये,
खुशियों के नवगीत मधुर से गा जाऊँ। 


भुजपाशों में तेरे, अपने जीवन का,
सारा बोझिल भार दाबने आए हैं,
दया नहीं अधिकार माँगने आए हैं। 


प्यार नहीं तो, फिर आहें भरना कैसा,
प्रणय निवेदन छवियों से करना कैसा,
हर आगत से कुशल हमारी जब पूछी,
फिर बाँहों में भरने से डरना कैसा। 


अपनी खुशियाँ छोड़ तुम्हारी दुनिया में,
अपना हर सम्बंध बाँचने आए हैं,
दया नहीं अधिकार माँगने आए हैं। 


*** अनुपम आलोक ***

Sunday, 28 October 2018

करे कोई भरे कोई




***
करे कोई भरे कोई, कहावत यह पुरानी है।
गुसांई दास तुलसी ने, इसे कुछ यों बखानी है।
करे अपराध जिह्वा पर, पिटाई पीठ की होती।
मढ़े जो और पर गलती, वही अब ब्रह्म ज्ञानी है।।
***
अजब दस्तूर दुनिया का, करे कोई भरे कोई।
इन्हीं उल्टे रिवाजों से, ये अंतर आत्मा रोई।
दिखे सुख चैन में दोषी, यहाँ निर्दोष कष्टों में।
डरे अल्लाह नंगे से, हया जिसने स्वयं खोई।।
***
वही पंडित पुरोहित भी, वही है मौलवी काजी।
रखे जो हाथ में अपने, सदा हर खेल की बाजी।
जमाना लम्पटों का है, पड़ें सब पर वही भारी।
भरी जिसकी रगों में है, दगाबाजी दगाबाजी।।
***
बजा ले गाल जो जितने, करे जो श्रेष्ठ ऐयारी।
सदा खुद की खता को जो, किसी पर थोप दे सारी।
हिले पत्ता न कोई भी, बिना उसके इशारे के।
समझिए कर चुका है अब, निज़ामत की वो तैयारी।।
***
जगत में जो बड़ा काफिर, वही तो तख्त पाता है।
स्वयं के कारनामों में, शरीफों को फँसाता है।
बदल दे झूठ को सच में, चढ़ा दे सत्य को सूली।
करे कोई भरे कोई, यही करके दिखाता है।।


*** हरिओम श्रीवास्तव ***

Sunday, 21 October 2018

कोमल पैरों में - एक कविता




कोमल पैरों में कहीं चुभें दूर्वा के तृण,
इससे डरकर क्या पथ चलना दें त्याग सखे
। 

मखमल आदत में अगर रहा भी हो शामिल,
क्या पाषाणी सच से हम जाएँ भाग, सखे
।।


गीता ने माना, दिए कर्म-उपदेश बहुत,
ठुकरा दें क्या जो मिलें कभी फुर्सत के क्षण।
क्या है आवश्यक, वह उतावला-सा ही हो,
क्या धीरज धरना सीख नहीं पाएगा प्रण।।


माना,कठोर होने को अब कह रहा समय,
कोमल अहसासों के सिर क्यों दें आग, सखे।।


मौसम आँधी वाले हैं,क्या इससे घबरा,
तुलसी का पौधा खुद को कर ले काष्ठ-सदृश।
क्षणभंगुर जीवन का आनन्द न ले पाए,
क्यों बस गुलाब मुरझाने को ही रहे विवश।।


रंगों वाले हाथों तक कीच चली आई।
क्या अंतिम विदा ले गया है अब फाग, सखे।।


माना, मन तो हो चुके किसी पत्थर-जैसे।
क्या लहज़े को भी नरम नहीं रख सकते हैं।।
अंतर्मन को क्या ज़रा राग की ऊष्मा से।
अब कुछ क्षण भी हम गरम नहीं रख सकते हैं।।


दो-चार ज़रा मीठी-मीठी बातें कर लें।
हो भले न कुछ आपस में भी अनुराग, सखे।।


*** पंकज परिमल ***

Sunday, 14 October 2018

वंदना - शृंगार छन्द

 


'सत्य की विजय' दशहरा-पर्व।
मनाते अनुभव होता गर्व॥
सदा मर्यादा का हो भान।
तभी हो सफल राम गुणगान॥1॥


शब्द 'माँ' शुद्ध बीज इक मंत्र।
व्यर्थ सब अन्य यंत्र या तन्त्र॥
करें आह्वान मातृ नवशक्ति।
करें माता की नवधा-भक्ति॥2॥


शरद ऋतु का अनुपम त्योहार।
दशहरा-महिमा अपरम्पार॥
मनाये पूरा भारत देश।
'अलग पर एक' यही संदेश॥3॥

 
 ========================

 *** कुन्तल श्रीवास्तव ***

Sunday, 7 October 2018

क्या करें - एक ग़ज़ल



विष भरे जिसके हृदय हो प्यार उनसे क्या करें
है पड़ोसी दुष्ट तो व्यवहार उनसे क्या करें


घात करते रोज उनके कर्म सब नापाक हैं
कब्र में जा खुद छिपे जो रार उनसे क्या करें


चाहते मिलना गले पर हाथ में लेकर छुरी
चाल जिनकी छल भरी सहकार उनसे क्या करें


चेतना जिनकी दबी अज्ञानता के बोझ से
मूढ़ता भारी भरी तकरार उनसे क्या करें


गिद्ध सारे नोचते विश्वास की मृत देह को
कामना जिनकी हवस अभिसार उनसे क्या करें


कर्म से मन से वचन से जो समर्पण कर चुका
भूख जिसको ज्ञान की इंकार उनसे क्या करें


धर्म पथ पर देह आहत क्या करें अनजान हम
गैर है चारों तरफ़ मनुहार उनसे क्या करें


*** भीमराव झरबड़े "जीवन" बैतूल

Sunday, 30 September 2018

यश या अपयश


बाज़ार में बिकते हैं आज
कीर्ति-ध्वज
यश-पताकाएं,
जितनी चाहें
घर में लाकर
सजा लें,
कुछ दीवारों पर टांगे
कुछ गले में लटका लें
नामपट्ट बन जायेंगे
द्वार पर मढ़ जायेंगे
पुस्तकों पर नाम छप जायेंगे
हार चढ़ जायेंगे
बस झुक कर
कुछ चरण-पादुकाओं को
छूना होगा
कुछ खर्चा-पानी करना होगा
फिर देखिए
कैसे जीते-जी ही
अपनी ही मूर्तियों पर
आप
अपने-आप ही हार चढ़ायेंगे।

*-*-*-*-*-
*** कविता सूद ***

दीप-ज्योति प्रज्ज्वलित है

दीप-जीवन, ज्योति प्रभु की प्रज्ज्वलित है। नेह-घृत में आत्म-बाती आगलित है॥  ज्योति-घट छलका बना अस्तित्व तेरा। मातु-पितु से है सुभ...