Sunday, 26 October 2014

दो रचनायें

सत्यं शिवं सुन्दरम् - साहित्य सृजन मेखला 
के साहित्यिक मंच पर 
मज़मून 25 में चयनित 
सर्वश्रेष्ठ दो रचनायें 


रचना - 1

रोशन कर लो दीप जो, जोड़े मन के तार।
तिमिर हटे प्राचीर सा, मिले द्वार से द्वार
।1

मन को रखो बुहार कर, सत माटी से लीप
  रंग भरे प्रभु नेह का, हिय बारो वह दीप ।2

जब तक घृत था तेल था, बाती में थी आग
  दीपक से तब तक रहा, मानव का अनुराग ।3

रोशन थे जब दीप कल, रोशन थी तब रात
  मावस का तम दूर था, कहता नवल प्रभात ।4

नेह प्रीति के दीप से, घर-घर करें प्रकाश 
हरित धरा चमचम करे, जगमग हो आकाश ।5

~ फणीन्द्र कुमार ‘भगत’




रचना -2
 
दीप तूने दिया,
सबको प्रकाश
खुद अँधेरे में रहकर,
संत भक्त सूर की तरह
।1

दीपक तेरी लौ,
सदा अग्रसर
उच्च गगन की और,
सदाशयता की तरह
।2

तम को हरता,
दीपक तूँ ,
सदा खिला रहता
चांदनी की तरह
।3

प्रकाशमान जाज्वल्य
घट भी मठ भी,
और शठ भी
समरसता की तरह
।4

पतंगे जल जाते है,
फिर भी दौड़े आते है,
ये मोहब्बत है दीप
लैला मजनूं की तरह
।5


  एक दोहा:-

बड़ा खजाना ज्ञान का,वेद पुरानकुरान
  दीप जला सदभाव का,समरस करे सुजान

~ जी. पी. पारीक

Sunday, 19 October 2014

दो कवितायें

सत्यं शिवं सुन्दरम् - साहित्य सृजन मेखला 
के साहित्यिक मंच पर 
मज़मून 24 में चयनित 
सर्वश्रेष्ठ रचना


                (एक छन्दमुक्त कविता)                                                                         (दो मुक्तक)
 
                 भरी धरा                                                                                        जो हैं बेवस और लाचार,
                 पापियों से                                                                                      उन पर करो न अत्याचार,
                 मन में भरा                                                                                     उनकी आंहों की ज्वाला से, 
                 आक्रोश                                                                                         बच पाओगे, करो विचार ।।
                 धधक रही भीतर
                 ज्वाला
                 सहती रही
                 अवनी                                                                                            
कुदरत ने सबको है पाला, 
                 असहनीय पीड़ा                                                                              स्वयं ईश उसका रखवाला, 
                 अंतस की                                                                                        जब जब हो उससे खिलवाड़, 
                 उगल दिया लावा                                                                             धधक उठे तब उगले ज्वाला।।
                 उसने
                 फूट गई
                 जवालामुखी बन

                                                                                                                    
*** हरिओम श्रीवास्तव ***
           *** रेखा जोशी ***

Sunday, 12 October 2014

थोथा चना बाजे घना

सत्यं शिवं सुन्दरम् - साहित्य सृजन मेखला 
के साहित्यिक मंच पर 
मज़मून 23 में चयनित 
सर्वश्रेष्ठ रचना



गीतिका

थोथा हूँ, चना हूँ,
बजता भी घना हूँ.

अगर मुझे सुनो तो,
लगता सौ मना हूँ.

असली से लगे जो,
झूठों से बना हूँ.

ढोलक में हवा सा,
रस्सी से तना हूँ.

दिखता हूँ फरेबी ,
घुन से जो सना हूँ.

आईना दिखे तो,
होता अनमना हूँ.

जीवन में कहावत,
इस कारण बना हूँ.

  ***** मदन प्रकाश
*****

Sunday, 5 October 2014

रावण दहन

सत्यं शिवं सुन्दरम् - साहित्य सृजन मेखला 
के साहित्यिक मंच पर 
मज़मून 22 में चयनित 
सर्वश्रेष्ठ रचना



हर साल मिटाये जाते हैं, हर साल जलाये जाते हैं।
 फिर भी ये इतने रावण, हर रोज कहाँ से आते हैं।।

कभी झूठ की जीत चाहिये, कभी सत्यता खलती है
 कभी शान्ति की चाहत है, कभी शत्रुता पलती है।
 मानव जाने कब से पल-पल ख़ुद अपने से लड़ता है,
 मानव मन में साथ-साथ दोनो धारायें चलती हैं।।

देव और दानव के किस्से हर रोज सुनाये जाते हैं
 फिर भी ये इतने रावण, हर रोज कहाँ से आते हैं।।

कभी मोह ने घेर लिया, कभी अहम् ने बीन बजायी
 कभी क्रोध की ज्वाला है, कभी स्वार्थ की बदली छायी। 
 सच बतलाने की कोशिश हर बार हुयी मानव तुझको
 जब-जब विवेक की आँखों पर, आयी कोई भी परछाई।।

गाँधी भी पढ़ाये जाते हैं, गौतम भी सुनाये जाते हैं
 फिर भी ये इतने रावण, हर रोज कहाँ से आते हैं।।

कभी नशे में चूर हुये तो कभी लगे कुछ पल को जगने
 कभी दिखे केवल अपने, कभी विश्व-विजय के सपने। 
 मानव कितनी सदियों से ख़ुद को धोखा देता आया
 कभी रक्त से राजतिलक, कभी लगे ईश्वर को जपने।।

हर बार दहन होती लंका और राम अयोध्या आते हैं
 जन-जन में रावण मिलते, घर-घर में लंका पाते हैं।।

हर साल मिटाये जाते हैं, हर साल जलाये जाते हैं। 
 फिर भी ये इतने रावण, हर रोज कहाँ से आते हैं।।


***** संजीव जैन *****

प्रेम होना चाहिए

धन नहीं धरती नहीं मुझको न सोना चाहिए हर हृदय में सिर्फ सच्चा प्रेम होना चाहिए स्वार्थ का है काम क्या इस प्रेम के संसार में...