Sunday, 25 September 2016

पीले बादल



बादल पीले हो गए, कैसी यह तस्वीर।
वृक्ष अकेला है खड़ा, ज्यों फूटी तकदीर।।
ज्यों फूटी तकदीर, कि जैसे कुदरत रूठी।
तौबा हर शै आज, मुझे लगती है झूठी।
कहे रजत घबराय, कभी थे नीले नीले।
जाने क्या है राज़, हुए जो बादल पीले।।
==========================
*** गुरचरन मेहता 'रजत'

No comments:

Post a Comment

दीवाली के दोहे

जब लौटे वनवास से, लखन सहित सियराम। दीपों से जगमग हुआ, नगर अयोध्या धाम।।1।। जलते दीपों ने दिया, यह पावन संदेश। ज्योतिपुञ्ज श्...