Sunday, 25 September 2016

पीले बादल



बादल पीले हो गए, कैसी यह तस्वीर।
वृक्ष अकेला है खड़ा, ज्यों फूटी तकदीर।।
ज्यों फूटी तकदीर, कि जैसे कुदरत रूठी।
तौबा हर शै आज, मुझे लगती है झूठी।
कहे रजत घबराय, कभी थे नीले नीले।
जाने क्या है राज़, हुए जो बादल पीले।।
==========================
*** गुरचरन मेहता 'रजत'

No comments:

Post a Comment

क्रोध/कोप पर दोहे

मानव मन के गाँव में , व्यथा बड़ी है एक । चिरंजीव हो क्रोध ने , खंडित किया विवेक ।। क्रोधाग्नि जब-जब जली , अंहकार के गाँव । नि...