Sunday, 11 September 2016

आल्हा छंद



बुद्धिराज, गणराज विराजे, वर माँगें सब शीश नवाय।
चढ़े प्रसादी मोदक, केला, खूब मज़े से 'मुसवा' खाय।।
--------
एकदंत की महिमा न्यारी, नर- नारी सब करें बखान।
बड़े दुलारे शिवशंकर के, मैया पारवती की जान।।
-------
नहीं किसी को चैन जगत में, घर-घर में नाना जंजाल।
सबकी यही अपेक्षा होती, गणपति कर दें मालामाल।।
-------
कुछ आयोजक अति उत्पाती, माँग रहे चंदा धमकाय।
झूमें-नाचें ख़ूब नशे में, फूहड़ गाने रहे बजाय।।
-------
नहीं शुद्ध मन से करते हैं, लोगबाग अब तो शुभ काज।
नैतिकता का हुआ पतन है, 'राज' अनैतिक आज समाज।।


***** राजकुमार धर द्विवेदी

4 comments:

  1. मेरी रचना को इस प्रतिष्ठित ब्लॉग पर जगह मिली। इसके लिए आदरणीय सपन जी और रजत को सादर नमन

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत बधाई आपको आदरणीय.

      Delete
  2. बहुत सुंदर स्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिल से आभार आपका आदरणीया.

      Delete

थोथा चना बाजे घना

भ्रम जी हाँ भ्रम भ्रमित करता है मन के दौड़ते अहंकार को, अंतस के शापित संसार को। क्षितिज पर धुएं का अंबार अम्बर की नील पराकाष्ठा को...