Sunday, 26 March 2017

शहीद दिवस



आज शहीदी दिवस साथियो, भगत सिंह से वीरों का।
राजगुरू, सुखदेव सरीखे, वतनपरस्त फकीरों का।
जब भारत की, महाघोष की ये हुंकारें भरते थे।
गोरे अफसर इनके डर से, थर-थर काँपा करते थे।


आजादी की खातिर इनने, हँस-हँस के बलिदान दिया।
भारत के तीनो बेटों ने, एक साथ प्रस्थान किया।
इन मतवाले वीरों की इस, कुर्बानी का ध्यान रहे।
हाथ तिरंगा औ होंठों पर, भारत का जयगान रहे।


***** रणवीर सिंह (अनुपम)

No comments:

Post a Comment

क्रोध/कोप पर दोहे

मानव मन के गाँव में , व्यथा बड़ी है एक । चिरंजीव हो क्रोध ने , खंडित किया विवेक ।। क्रोधाग्नि जब-जब जली , अंहकार के गाँव । नि...