Sunday, 20 September 2015

पाँच दोहे चित्र आधारित



देखन में सुंदर लगें, ये घन पूर्ण सफेद।
हम बारिश करते नहीं, कहते श्वेत सखेद।।
-------------------------------------------------
काले बदरा नीर ले, कहीं गए हैं रेंग।
उनकी बाट न जोहिए, दिखा दिए हैं ठेंग।।
----------------------------------------------
बिन पानी इस साल तो, फसल गई मुरझाय।
व्यापी चिंता कृषक में, तनिक न निद्रा आय।।
----------------------------------------------------
गाँव छोड़ अब जा रहे, लेकर पेट मजूर।
बचे हुए जो गाँव में, वे हैं अति मजबूर।।
--------------------------------------------------
राजनीति नेता करें, साहब हैं खुशहाल।
हालत पतली देश की, जनजीवन बदहाल।।


=================

***** राजकुमार धर द्विवेदी

6 comments:

  1. बहुत सुन्दर और सार्थक दोहे...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आपका आदरणीय Kailash Sharma जी.
      सादर नमन

      Delete
  2. साधुवाद, आदरणीय कैलाश शर्मा जी। नमन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक बधाई राजकुमार धर द्विवेदी जी.
      सादर नमन

      Delete
    2. मुरारि पचलंगियाMonday, September 28, 2015

      बहुत सारगर्भित उत्कृष्ट दोहे...

      Delete
    3. सादर आभार मुरारी पचलंगिया जी, सादर नमन

      Delete

बचपन

जो किसी भी लालसा से मुक्त होगा सच कहें तो बस वही उन्मुक्त होगा हो नहीं ईर्ष्या न मन में द्वेष कोई हो न अभिलाषा-जनित आवेश कोई कुछ ...