Sunday, 13 September 2015

पाँच - हाइकु



उजालों में भी,
पलते हैं अंधेरे;
दीपक तले । 


उजाले देता,
मुफलिसी में जीता;
अंधेरे पीता । 


जलता रहे,
तिमिर से लड़ता;
मिट्टी का दीया । 


दीप लघु हूँ,
अंधेरों को पीता हूँ;
तन्हा जीता हूँ ।


मुँह अंधेरे,
कचरे में ढूँढता;
पेट की रोटी । 


*** डॉ. रमा द्विवेदी

4 comments:

  1. Replies
    1. सादर आभार आपका आदरणीय Suresh Chaodhary जी.
      सादर नमन

      Delete
  2. आदरणीय सपन जी ,बहुत -बहुत शुक्रिया ` सहज साहित्य' में मेरी रचना प्रकाशित करने के लिए ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर स्वागत है आपका आदरणीया Rama जी.
      सादर नमन

      Delete

मेघअश्रु बरसाता है

प्रकृति दोष जब धरती माँ के, आँचल आग लगाता है । एक वक्त की रोटी को भी, पेट तरस तब जाता है । कुल कुटुंब की भूख विवशता, होती धरती पुत्र...