Sunday, 30 August 2015

मज़मून - 68


-----------------------------
-- कह-मुकरी --
-----------------------------


वह जब आये मन हर्षाये,
ढेरों खुशियाँ सँग में लाये,
उससे बँधा प्रेम का बंधन,
क्या सखि साजन ? न 'रक्षाबंधन'!!


--------------------------
दोहे-
--------------------------


रंग-बिरंगी राखियाँ, झिलमिल हैं बाजार।
मन को अति पुलकित करे, राखी का त्योहार।।1।।


भैया तेरी याद में, बहना है बेहाल।
राखी बँधवाने यहाँ, आ जाना हर हाल।।2।।


कच्चे धागे में बँधा, बहना का ये प्यार।
माँगे भाई के लिये, खुशियों का संसार।।3।।


भैया कभी न छोड़ना, संकट में तुम साथ।
इसी आस विश्वास से, तिलक लगाया माथ।।4।।


**हरिओम श्रीवास्तव**

No comments:

Post a Comment

मेघअश्रु बरसाता है

प्रकृति दोष जब धरती माँ के, आँचल आग लगाता है । एक वक्त की रोटी को भी, पेट तरस तब जाता है । कुल कुटुंब की भूख विवशता, होती धरती पुत्र...