Friday, 10 May 2013

एक प्रार्थना (जय श्रीराम)



                                           राम नाम जपते रहो, आयेंगे प्रभु राम ।
                                       चरण-शरण में जग रहे, जग का हो कल्याण ।।

                                           राम नाम ही नाम है, राम नाम ही ज्ञान ।
                                          राम नाम जपते रहे, गुण हों राम समान ।।

                                           राम नाम का जाप तो, करता कार्य महान ।
                                              दर्शन देते प्रभु उन्हें, ला देते मुस्कान ।।

 

                                             श्रीराम कृपा का दान, देना कुछ वरदान।
                                               जीवन तेरे हवाले, कृपा करो भगवान।।

 

                                          भज राम भजो श्रीराम, कृष्ण भजो गोपाल।
                                          कष्ट सब मिट जायेगा, होगा जग कल्याण।।

2 comments:

  1. वाह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह क्या बात है सपन जी भाई साहब बहुत ही कोमल और पावन भावों को आपने इन दोहों में सजाया है... यह सच है कि प्रभु स्मरण से ही सब संकटों और सब दुखों से हम दूर रह सकते हैं इसलिए हमें हर पल प्रभु का स्मरण करना चाहिए... बधाई आपको भाई साहब... सादर वंदे...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से बहुत-बहुत आभार नवल जी। प्रभु में मन रम जाए तो इससे अच्छा क्या होगा। मन के भावों को प्रभु के समीप लाना ही उद्देश्य है। इस सुन्दर सराहना के लिए आपका दिल से आभार। सादर नमन।

      Delete

थोथा चना बाजे घना

भ्रम जी हाँ भ्रम भ्रमित करता है मन के दौड़ते अहंकार को, अंतस के शापित संसार को। क्षितिज पर धुएं का अंबार अम्बर की नील पराकाष्ठा को...