Saturday, 9 February 2013

एक ग़ज़ल


2 comments:

  1. Replies
    1. कामिल कुमार जी,
      बहुत-बहुत शुक्रिया आपका.

      सादर
      सपन

      Delete

क्रोध/कोप पर दोहे

मानव मन के गाँव में , व्यथा बड़ी है एक । चिरंजीव हो क्रोध ने , खंडित किया विवेक ।। क्रोधाग्नि जब-जब जली , अंहकार के गाँव । नि...