Saturday, 9 February 2013

एक ग़ज़ल


2 comments:

  1. Replies
    1. कामिल कुमार जी,
      बहुत-बहुत शुक्रिया आपका.

      सादर
      सपन

      Delete

दीवाली के दोहे

जब लौटे वनवास से, लखन सहित सियराम। दीपों से जगमग हुआ, नगर अयोध्या धाम।।1।। जलते दीपों ने दिया, यह पावन संदेश। ज्योतिपुञ्ज श्...