Saturday, 9 February 2013

एक ग़ज़ल


2 comments:

  1. Replies
    1. कामिल कुमार जी,
      बहुत-बहुत शुक्रिया आपका.

      सादर
      सपन

      Delete

मत उदास हो

मत उदास हो थके मुसाफिर कुछ श्रम बिंदु बिखर जाने से यह पथ और निखर जायेगा। रोक सकी कब पागल रजनी आने वाली सलज उषा को बाँध न पाई काली...