Saturday, 9 February 2013

एक ग़ज़ल


2 comments:

  1. Replies
    1. कामिल कुमार जी,
      बहुत-बहुत शुक्रिया आपका.

      सादर
      सपन

      Delete

बचपन

जो किसी भी लालसा से मुक्त होगा सच कहें तो बस वही उन्मुक्त होगा हो नहीं ईर्ष्या न मन में द्वेष कोई हो न अभिलाषा-जनित आवेश कोई कुछ ...