Sunday, 14 May 2017

मौन के साये


 
जाम होठों से लगाये मीत तेरे नाम पर
मौन के साये लदे हैं आज अपनी शाम पर


कब शुरू होकर कहाँ ढलती रहीं शामें सभी
कौन रक्खे अब नज़र आगाज़ पर अंजाम पर


साँझ की भी क्या कहें, बस रात छाती है यहाँ
रोज़ तारे देखते हैं चुप खड़े हो बाम पर


चूम शामों की पलक हम कर रहे थे बंदगी
अब खुदा ही दे गवाही इश्क़ के इलज़ाम पर


ज़िन्दगी की साँझ में क्या खूब तुम हो आ मिले
वक़्त मेरा मुस्कुराया देर के ईनाम पर 


 ***** मदन प्रकाश

No comments:

Post a Comment

अरे ओ व्योम!

ओ, चतुर्दिक फैले हुए, समस्त पर आच्छादित, अनन्त तक अपनी बाँहें पसारे व्योम! कितना विलक्षण चरित्र है तुम्हारा! निराकार होकर भी दृश्...