Saturday, 14 May 2016

सिंहस्थ कुम्भ महापर्व पर दोहे




पापी मन तू चेत ले, रखा न हरि का ध्यान
आई अब है शुभ घड़ी, कर ले पावन स्नान।1
<>
मेला है सिंहस्थ का, छलका अमृत नीर

लालायित सब लोग हैं, बैठे क्षिप्रा तीर
।2
<>
गुरु का बंधु प्रवेश जब, सिंह राशि में होय

तब लगता सिंहस्थ है, पूर्ण मनोरथ होय
।3
<>
क्षिप्रा के तट पर भई, साधु-सन्त की भीड़

भोले के दर्शन करो, मन -पंछी तज नीड़
।4। 
<>
हरिद्वार को सब कहें, सदा मोक्ष का द्वार।
महापर्व सिंहस्थ में, हो जाये उद्धार।।5
। 

<>
***** गुप्ता कुमार सुशील 'गुप्तअक्स'

2 comments:

  1. वाह बहुत प्रसंसनीय दोहे, बधाई आपको

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार आपका आदरणीय.

      Delete

क्रोध/कोप पर दोहे

मानव मन के गाँव में , व्यथा बड़ी है एक । चिरंजीव हो क्रोध ने , खंडित किया विवेक ।। क्रोधाग्नि जब-जब जली , अंहकार के गाँव । नि...