Sunday, 21 February 2016

मौसम


 
गहरी आँखों से काजल चुराने की बात न करो।
दिलकश चेहरे से घूँघट उठाने की बात न करो।।


सावन है बहुत दूर ऐ मेरे हमदम मेरे हमसफ़र।
बिन मौसम ही यूँ तुम सताने की बात न करो।।


इंतज़ार ही किया तुम्हारा हर मुलाक़ात के लिए।
ऐसे में फिर तुम अपना जताने की बात न करो।।


प्यार के परिंदे बन उड़ना ही अच्छा इस जहाँ में।
ज़ालिम है ज़माना घर बसाने की बात न करो।।


जहाँ चलती हो प्रेम के विपरीत खूब आँधियाँ ।
वहाँ फिर प्यार की शमाँ जलाने की बात न करो।।


***** "दिनेश"

10 comments:

  1. आदरणीय विश्वजीत जी सपन जी मेरी रचना को सम्मान देने और ब्लॉग पर जगह देने के लिए दिल से आभार आपका

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर स्वागत है आद. Dinesh Dave जी. सादर नमन

      Delete
    2. आभार आपका आदरणीय सपन जी साहिब

      Delete
  2. आदरणीया रेखा जोशी जी दिल से आभार आपका, मेरी रचना के भावो , शिल्प को सम्मान दिया , और सर्वश्रेष्ठ रचना घोषित कर मेरा उत्साह बढ़ाने के लिए

    ReplyDelete
    Replies
    1. आद. रेखा जोशी का दिल से आभार है आदरणीय. उनका चयन बहुत सुन्दर है. सादर नमन

      Delete
  3. सभी सम्मानित सदस्यों , मित्रो का दिल से आभार, समय समय पर उत्साह बढ़ाते है ,स्नेह मिलता है आप सभी का जो सृजन यात्रा को सहज बनाता है

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका उत्साहवर्धन हो इसी कारण से यह कार्यक्रम रखा गया है, ताकि अनगिनत पाठक मिल सके. इसी प्रकार लिखते रहें और ईश्वर आपको सफलता प्रदान करता रहे.
      सादर नमन

      Delete
  4. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  5. आदरणीय विश्वजीत जी सपन जी मेरी रचना को सम्मान देने और ब्लॉग पर जगह देने के लिए दिल से आभार आपका

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय दिनेश दवे जी, आपका हार्दिक स्वागत है. आपका उत्साहवर्धन हुआ तो मंच की मंशा की पूर्ति हुई. इसी प्रकार स्नेह बनाये रखें. सादर नमन

      Delete

दीवाली के दोहे

जब लौटे वनवास से, लखन सहित सियराम। दीपों से जगमग हुआ, नगर अयोध्या धाम।।1।। जलते दीपों ने दिया, यह पावन संदेश। ज्योतिपुञ्ज श्...