Sunday, 31 August 2014

पाँच कह मुकरिया

सत्यं शिवं सुन्दरम् - साहित्य सृजन मेखला 
के साहित्यिक मंच पर 
मज़मून 17 में चयनित 
सर्वश्रेष्ठ रचना

1
 
उनका आना मंगलकारी,
काया उनकी सबसे न्यारी,
देते मुझको वो सुख सम्पति,
क्या सखि साजन ? नहिं सखि ‘गणपति’ !!

2

राह तकूँ कब होगी आवन,
आकर कर दें मुझको पावन,
वो सब देते सुख अरु सन्मति
क्या सखि साजन ? नहिं सखि ‘गणपति’ !!

3

मैं जब याद करूँ वो आते,
मोदक बड़े चाव से खाते,
उनके लिये अधीर हुआ मन,
क्या सखि साजन ? नहीं “गजानन’ !!

4

वो मुझसे मिलने हैं आते,
संतापों को दूर भगाते,
उनको सब अर्पण तन मन धन,
क्या सखि साजन ? नहीं “गजानन’ !!

5

वो मेरे दिल में है रहता
मेरे विघ्न हरण वह करता,
मुझपर लगा उसी का ठप्पा,
क्या सखि साजन ? “गणपति बप्पा’ !!
----------------------------------------------

***हरिओम श्रीवास्तव***

No comments:

Post a Comment

मत उदास हो

मत उदास हो थके मुसाफिर कुछ श्रम बिंदु बिखर जाने से यह पथ और निखर जायेगा। रोक सकी कब पागल रजनी आने वाली सलज उषा को बाँध न पाई काली...