Friday, 15 June 2012

एक कविता - दुविधा













धरती, आकाश, बादल, वर्षा ...
सर्दी, गर्मी, पवन, पर्वत ...
सब के सब प्रकृति के काल-चक्र,
शनैः-शनैः हो परिवर्तित सर्व-चक्र,
सर्वथा अकाट्य !
मानव तू व्यर्थ ही काल गँवाता है,
अर्द्धांश यूँ ही चिंतन में बिताता है,
बदलता नहीं हैं नियम-क्रम,
मिटती नहीं है नियति कभी,
है तुच्छ प्राणी उसी (ब्रह्म) का अंग,
कृति उसी की, जागृति उसी की,
फिर भी तू क्यों?
यूँ ही व्यर्थ काल गँवाता है,
जड़-चेतन का भेद बताता है,
जड़ वही है (ब्रह्म),
चेतन है संकल्पना उसकी,
जड़-चेतन तो उसकी है सृष्टि,
जड़-चेतन ही तो है जग-दृष्टि,
जग-दृष्टि को तुम दूर करो,
सत्-सृष्टि का तुम बोध करो,
व्यर्थ काल तुम न नष्ट करो,
सबकुछ तुम अब व्यक्त करो,
जीवन का अनुसंधान करो,
मानव तुम दुविधा दूर करो।

विश्वजीत 'सपन'

2 comments:

  1. 1) Very nice ! These lines break our ‘TANDRA’ and open the doors of a different and real world without ‘MAYA’.(MAYA MUKT JEEVAN)

    ReplyDelete
  2. Thank you very much Amit Kumar ji. Such words are gift to me and keeps me going.

    ReplyDelete

मेघअश्रु बरसाता है

प्रकृति दोष जब धरती माँ के, आँचल आग लगाता है । एक वक्त की रोटी को भी, पेट तरस तब जाता है । कुल कुटुंब की भूख विवशता, होती धरती पुत्र...