Saturday, 14 July 2012

एक ग़ज़ल - ये जहाँ फिर कहीं सो जाएगा

2 comments:

  1. waah bahut khubsurat ehsaason se saji ghazal...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत शुक्रिया सिया कुमार जी। आपके प्रेरक शब्दों ने मेरा हौसला बढ़ाया है.

      Delete

थोथा चना बाजे घना

भ्रम जी हाँ भ्रम भ्रमित करता है मन के दौड़ते अहंकार को, अंतस के शापित संसार को। क्षितिज पर धुएं का अंबार अम्बर की नील पराकाष्ठा को...