Saturday, 14 July 2012

एक ग़ज़ल - ये जहाँ फिर कहीं सो जाएगा

2 comments:

  1. waah bahut khubsurat ehsaason se saji ghazal...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत शुक्रिया सिया कुमार जी। आपके प्रेरक शब्दों ने मेरा हौसला बढ़ाया है.

      Delete

क्रोध/कोप पर दोहे

मानव मन के गाँव में , व्यथा बड़ी है एक । चिरंजीव हो क्रोध ने , खंडित किया विवेक ।। क्रोधाग्नि जब-जब जली , अंहकार के गाँव । नि...