Monday, 14 May 2012

माँ - मदर्स डे पर विशेष

माँ,
तुम कहाँ हो?
आज ढूँढ रहा हूँ तुम्हें,
कल तक तुम देहरी पर बैठी,
एक बुढ़िया थी,
लाचार, बेबस उम्र से,
शरीर साथ नहीं देता था,
और मैं,
तुम्हारा सामना करने में झिझकता था,
मुझे बहुत सारे काम थे,
जीवन में सभी आराम थे,
आज तुम नहीं हो,
ढूँढ रहा हूँ तुम्हें,
माँ?
तुम कहाँ हो?


(2)

माँ,
तुम कहाँ हो?
पाल-पोसकर बड़ा किया तुमने,
दूध नहीं तो अपना रक्त पिलाया तुमने,
अभागा मैं समझ न सका,
माँ की ममता न देख सका,
स्वयं ही में मशगूल रहा,
तुम बोली भी,
तो अनजान बना रहा,
तेरे बलिदानों को भुला दिया मैंने,
अपने सुख पर अभिमान किया मैंने,
आज तुम नहीं हो,
तो ढूँढ रहा हूँ तुम्हें,
माँ?
तुम कहाँ हो?


(3)

माँ,
तुम कहाँ हो?
याद है वो दिन,
भागकर आया था स्कूल से,
आँचल में छुपा लिया था तुमने,
झगड़ाकर आया था खेल के मैदान से,
आँचल में छुपा लिया था तुमने,
परीक्षा में अनुत्तीर्ण हो गया था,
आँचल में छुपा लिया था तुमने,
और मैं?
तुम्हें पहचानने से भी कतरा गया था,
मित्रों के मध्य वह एक बुढ़िया है, कहता गया था,
आज तुम नहीं हो,
तो ढूँढ रहा हूँ तुम्हें,
माँ?
तुम कहाँ हो?


(4)

माँ,
तुम कहाँ हो?
वह दिन अब भी नहीं भूलता है,
सब चलचित्र के समान घूमता है,
डूब रहा था दरिया में,
कूद पड़ी थी तुम,
बहाव तेज था,
हम दोनों ही बह निकले थे,
लेकिन,
तुमने मुझे नहीं छोड़ा था,
समझ जाना था उसी दिन,
माँ के आँचल की छाया संतान के लिए होती है,
संतान कुछ दे नहीं सकता,
प्यार के बोल बोल सकता है,
मैंने यह भी नहीं किया,
और?
आज तुम नहीं हो,
तो ढूँढ रहा हूँ तुम्हें,
माँ?
तुम कहाँ हो?

No comments:

Post a Comment

रक्षा-बन्धन आया है

देखो कैसा पावन दिन यह, रोली-चन्दन लाया है आज बहन से मुझे मिलाने, रक्षा-बन्धन आया है  बाबूजी की प्यारी बिटिया, माँ की राज दुलारी थी...