Sunday, 13 November 2016

प्रहार कर


हरेक बात गौर कर सुनीति से विचार कर
प्रथम स्वयं की दुष्ट प्रवृति पर प्रहार कर

असीम दुख, प्रताड़ना, अशेष यातना भुगत
भिड़ा रहा है रात दिन, दो जून चून की जुगत
लिए हुए तृषित अधर, जुगाड़ में जो नीर की
फटे वसन बता रहे, व्यथा अनंत पीर की
नहीं दिखा सहार दे, कोई व्यथा से तार दे
नहीं किसी गरीब को अनीति का शिकार कर

प्रथम स्वयं की...

विलासिता प्रधान आज जिंदगी बदल रही
दहेज सम अभी प्रथा समाज में है चल रही
नये चलन नये असर नये विधान कर सृजित
विक्षिप्त हो रहे युवा नशे की आग में ग्रसित
विनाश ले अनेक रूप डस रहा है नाग सा
मनुज के विकास हित कुरीति में सुधार कर

प्रथम स्वयं की...

*** गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत'
बीकानेर (राजस्थान )

No comments:

Post a Comment

बचपन

जो किसी भी लालसा से मुक्त होगा सच कहें तो बस वही उन्मुक्त होगा हो नहीं ईर्ष्या न मन में द्वेष कोई हो न अभिलाषा-जनित आवेश कोई कुछ ...