Monday, 16 March 2015

बाकी झलक अनोखेपन की




झलक रही छवि देख थके हम,
ललक भरे नैनन की;
बाकी झलक अनोखेपन की
दारुण दाह लिए,
बिछोह की आह लिए;
चित्त कुछ अधीर है,
अकथ कोई पीर है;
नेत्र में न नीर है,
शिथिल ज्यों शरीर है;
कथा-व्यथा है मानो;
एक वियोगी जन की
बाकी झलक अनोखेपन की
कह न सकी कुछ,
सुन न सकी कुछ,
रही मूक हलचल सी;
प्रकृति संग भी
निपट अकेली;
पावन गंगाजल सी
है ज्वालामुखी,
या उसकी चिंगारी;
मित्र कहो, है पुरुष;
या कह लो नारी!
रही प्रतीक्षा उभय दिशा से;
आलिंगन के क्षण की
बाकी झलक अनोखेपन की

*** हरिहर तिवारी ***

No comments:

Post a Comment

प्रेम होना चाहिए

धन नहीं धरती नहीं मुझको न सोना चाहिए हर हृदय में सिर्फ सच्चा प्रेम होना चाहिए स्वार्थ का है काम क्या इस प्रेम के संसार में...