Sunday, 28 September 2014

ज़िंदगी की डगर

सत्यं शिवं सुन्दरम् - साहित्य सृजन मेखला 
के साहित्यिक मंच पर 
मज़मून 21 में चयनित 
सर्वश्रेष्ठ रचना
  ज़िंदगी की डगर 
 ==========
ज़िंदगी की डगर, संग चलते हुए , 
हमने देखे हैं पत्थर पिघलते हुए
 धूप के सिलसिले छाँव के गाँव में 
पाँव चलते रहे यूँ ही जलते हुए
पंथ दुर्गम हमें मुस्कुराते लगे 
गुनगुनाते रहे हम सँभलते हुए
समर्पण को आतुर दिखी इक नदी
 हमने देखे समंदर मचलते हुए
इस सफ़र का कभी अंत होता नहीं 
रश्मियों ने कहा हमसे ढलते हुए
*** प्रो.विश्वम्भर शुक्ल ***

4 comments:

  1. बहुत गहरा अर्थ समेटे हुए है आपकी गीतिका ...नमन सर आपको

    ReplyDelete
    Replies
    1. आ. Shanti Purohit जी, प्रतिक्रिया हेतु सादर आभार आपका. सादर नमन

      Delete
  2. बहुत बधाई हो आपको ,आपकी लेखनी में तो माँ सरस्वती का निवास है ,प्रणाम आपको

    ReplyDelete
    Replies
    1. आ. Yashodhra जी, सादर आभार आपका. सादर नमन

      Delete

रक्षा-बन्धन आया है

देखो कैसा पावन दिन यह, रोली-चन्दन लाया है आज बहन से मुझे मिलाने, रक्षा-बन्धन आया है  बाबूजी की प्यारी बिटिया, माँ की राज दुलारी थी...