Thursday, 2 April 2015

आ बैल मुझे मार

 
मूर्ख पत्नी।
कपटी यार।
आ बैल मुझे मार। 


चोरी चकारी।
लूट का व्यापार।
आ बैल मुझे मार। 


अंधा राजा।
बहरे कहार।
आ बैल मुझे मार। 


पराई नार।
दिल बेकरार।
आ बैल मुझे मार। 


कड़वे बोल।
बिना विचार।
आ बैल मुझे मार।


*** संजीव जैन:-

No comments:

Post a Comment

बचपन

जो किसी भी लालसा से मुक्त होगा सच कहें तो बस वही उन्मुक्त होगा हो नहीं ईर्ष्या न मन में द्वेष कोई हो न अभिलाषा-जनित आवेश कोई कुछ ...