Thursday, 29 May 2014

रोला छंद


2 comments:

  1. वाह ! कायल हूँ आपकी लेखनी का … यथार्थ का सजीवता के साथ चित्रण किया है ।

    - पवन प्रताप सिंह 'पवन'

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार एवं नमन पवन सिंह राजपूत जी.

      Delete

मेघअश्रु बरसाता है

प्रकृति दोष जब धरती माँ के, आँचल आग लगाता है । एक वक्त की रोटी को भी, पेट तरस तब जाता है । कुल कुटुंब की भूख विवशता, होती धरती पुत्र...