Thursday, 29 May 2014

रोला छंद


2 comments:

  1. वाह ! कायल हूँ आपकी लेखनी का … यथार्थ का सजीवता के साथ चित्रण किया है ।

    - पवन प्रताप सिंह 'पवन'

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार एवं नमन पवन सिंह राजपूत जी.

      Delete

रक्षा-बन्धन आया है

देखो कैसा पावन दिन यह, रोली-चन्दन लाया है आज बहन से मुझे मिलाने, रक्षा-बन्धन आया है  बाबूजी की प्यारी बिटिया, माँ की राज दुलारी थी...