Thursday, 29 May 2014

रोला छंद


2 comments:

  1. वाह ! कायल हूँ आपकी लेखनी का … यथार्थ का सजीवता के साथ चित्रण किया है ।

    - पवन प्रताप सिंह 'पवन'

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार एवं नमन पवन सिंह राजपूत जी.

      Delete

क्रोध/कोप पर दोहे

मानव मन के गाँव में , व्यथा बड़ी है एक । चिरंजीव हो क्रोध ने , खंडित किया विवेक ।। क्रोधाग्नि जब-जब जली , अंहकार के गाँव । नि...