Sunday, 11 August 2013

मुक्तक

2 comments:

  1. Wah....ye pehlu ka humein pata na tha...Dhanyavaad

    ReplyDelete
  2. दिब्येंदु दत्ता,
    धन्यवाद मित्र. यह भी अभी अपूर्ण है. छंद के बारे में जानकारियाँ अगाध हैं और किसी एक व्यक्ति के लिए सब-कुछ जानना संभव नहीं है.

    सादर
    सपन

    ReplyDelete

दीवाली के दोहे

जब लौटे वनवास से, लखन सहित सियराम। दीपों से जगमग हुआ, नगर अयोध्या धाम।।1।। जलते दीपों ने दिया, यह पावन संदेश। ज्योतिपुञ्ज श्...