Thursday, 1 December 2011

तीन रचनाएँ (ग़ज़लनुमा)




इंसान
-----------

पीता हूँ दोस्त जब कभी इंसान बन गया
नज़रों से दूर जाम के होते ही मर गया।
किससे सुनाएँ हाल-ए-दिल* सुनता नहीं कोई
किसने कहा हैवान, वो सुनकर ही मर गया।
जो इक निगाह फेरी ज़माने के दौर पर,
न शाद जब मिला कोई तो जोश मर गया।
हर-सू* दिखाई देता है आलम फ़साद का,
लगता है इस मुक़ाम पर भगवान मर गया।
जब आग लग गई तो बुझाने को ऐ ‘सपन’
बस राख ही बची थी सब और जल गया।
===============
* दिल का हाल, * हर ओर, चारों तरफ़

        मैं वफ़ा ही करूँगा
        ----------------------

तुम ज़फ़ा भी करो, मैं वफ़ा ही करूँगा,
तुम सदा ना सुनो, मैं वफ़ा ही करूँगा।
तुम ख़ता भी करो, मैं वफ़ा ही करूँगा,
तुम वफ़ा ना करो, मैं वफ़ा ही करूँगा।
माह-ओ-साल* बीते ख़बर न तेरी आई,
तुम गुरेज़ाँ* रहो, मैं वफ़ा ही करूँगा।
ऐ संगे-दिल* हसीना, है ग़म भरा महीना,
तुम कुछ ना करो, मैं वफ़ा ही करूँगा।
देख शम्मे-महफ़िल* तो बुझने को आई,
तुम रौशन रहो, मैं वफ़ा ही करूँगा।
मैकदे* में पीता हूँ और क्या करूँ मैं?
तुम बद-ख़ू* कहो, मैं वफ़ा ही करूँगा।
वफ़ा तो वफ़ा रहे, 'सपन' की आरज़ू है,
तुम ज़फ़ा भी करो, मैं वफ़ा ही करूँगा।
============
* महीने और साल * दूर-दूर * महफ़िल की शम्मा * शराबखाना * बुरी आदत वाला


       यूँ ना बैठाओ
       ----------------

बंद-ए-इश्क़* में हूँ, यूँ ना बैठाओ,
दरख़ुरे-महफ़िल* हूँ, यूँ ना बैठाओ।
तश्ना-ए-शौक* का मारा हुआ हूँ,
बे-नियाज़ी* में हूँ, यूँ ना बैठाओ।
करूँ तसलीम उस तसव्वुर को,
तेरे आगोश में हूँ, यूँ ना बैठाओ।
अन्दोहे-इश्क़* की तपिश है मुझे,
मैं अंदेशे* मैं हूँ, यूँ ना बैठाओ।
मुझे गुरेज़* नहीं, तुम्हीं गुरेज़ाँ* हो,
अलम-नसीम* मैं हूँ, यूँ ना बैठाओ।
तुम्हारे हुस्न का सर चढ़ा है जादू,
सरगस्तगी* में हूँ, यूँ ना बैठाओ।
है 'सपन' बेपरवा, बेख़साल होगा क्यों?
तपिश-ए-दिल* में हूँ, यूँ ना बैठाओ।
=============
* प्रेम का बंधन * महफ़िल के योग्य * अभिलाषा की प्यास * उपेक्षा * प्रेम की वेदना * चिंतन * झिझक * दूर-दूर होना या रहना * जिसके भाग्य में दुःख हो * उन्माद * जो अच्छी आदत वाला नहीं है * दिल की जलन  


2 comments:

बचपन

जो किसी भी लालसा से मुक्त होगा सच कहें तो बस वही उन्मुक्त होगा हो नहीं ईर्ष्या न मन में द्वेष कोई हो न अभिलाषा-जनित आवेश कोई कुछ ...